गया में पिंडदान करने से पूर्वजों को मिलता है मोक्ष, इसे कहा जाता है 'पितृ तीर्थ' - - vimore.org

गया में पिंडदान करने से पूर्वजों को मिलता है मोक्ष, इसे कहा जाता है 'पितृ तीर्थ'

गया में पिंडदान करने से पूर्वजों को मिलता है मोक्ष, इसे कहा जाता है 'पितृ तीर्थ'

YouTube

गया में पिंडदान करने से पूर्वजों को मिलता है मोक्ष, इसे कहा जाता है 'पितृ तीर्थ' हिंदू धर्म में पितृपक्ष को शुभ कामों के लिए वर्जित माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि पितृपक्ष में श्राद्ध कर्म कर पिंडदान और तर्पण करने से पूर्वजों की सोलह पीढ़ियों की आत्मा को शांति और मुक्ति मिल जाती है। इस मौके पर किया गया श्राद्ध पितृऋण से भी मुक्ति दिलाता है। पितरों की मुक्ति का प्रथम और मुख्यद्वार कहे जाने की वजह से गया में पिंडदान का विशेष महत्व है। आश्विन महीने के कृष्ण पक्ष श्राद्ध या महालया पक्ष कहलाता है। हिंदू धर्म और वैदिक मान्यताओं में पितृ योनि की स्वीकृति और आस्था के कारण श्राद्ध का प्रचलन है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, पिंडदान मोक्ष प्राप्ति का एक सहज और सरल मार्ग है। ऐसे तो देश के कई स्थानों में पिंडदान किया जाता है, मगर बिहार के फल्गु तट पर बसे गया में पिंडदान का बहुत महत्व है। कहा जाता है कि भगवान राम और सीताजी ने भी राजा दशरथ की आत्मा की शांति के लिए गया में ही पिंडदान किया था। गरुड़ पुराण में कहा गया है कि गया जाने के लिए घर से निकलने पर चलने वाले एक-एक कदम पितरों के स्वगार्रोहण के लिए एक-एक सीढ़ी बनाते हैं। गयावाल तीर्थव्रती सुधारिनी सभा के अध्यक्ष गजाधर लाल जी ने बताया, “महाभारत में लिखा है कि फल्गुन तीर्थ में स्नान करके जो मनुष्य श्राद्ध में भगवान गदाधर (भगवान विष्णु) का दर्शन करता है, वह पितरों के ऋण से विमुक्त हो जाता है।” उन्होंने बताया कि फल्गु श्राद्ध में पिंडदान, तर्पण और ब्राह्मण भोजन ये तीन मुख्य कार्य होते हैं। पितृपक्ष में कर्मकांड का विधि विधान अलग-अलग है। श्रद्धालु एक दिन, तीन दिन, सात दिन, पंद्रह दिन और 17 दिन का कर्मकांड करते हैं। गया को विष्णु का नगर माना गया है। यह मोक्ष की भूमि कहलाती है। विष्णु पुराण और वायु पुराण में भी इसकी चर्चा की गई है। विष्णु पुराण के मुताबिक गया में पिंडदान करने से पूर्वजों को मोक्ष मिल जाता है और स्वर्गवास करते हैं। माना जाता है कि स्वयं विष्णु यहां पितृ देवता के रूप में मौजूद हैं, इसलिए इसे 'पितृ तीर्थ' भी कहा जाता है। गया के गयापाल पंडा मनीलाल बारीक कहते हैं कि फल्गुन नदी के तट पर पिंडदान किए बिना पिंडदान हो ही नहीं सकता। पिंडदान की प्रक्रिया पुनपुन नदी के किनारे से प्रारंभ होती है। एक प्रचलित कथा के अनुसार, भस्मासुर के वंशज में गयासुर नामक राक्षस ने कठिन तपस्या कर ब्रह्मा जी से वरदान मांगा था कि उसका शरीर देवताओं की तरह पवित्र हो जाए और लोग उसके दर्शन मात्र से पाप मुक्त हो जाएं। इस वरदान के मिलने के बाद स्वर्ग की जनसंख्या बढ़ने लगी और प्राकृतिक नियम के विपरीत सबकुछ होने लगा। लोग बिना भय के पाप करने लगे और गयासुर के दर्शन से पाप मुक्त होने लगे। इससे बचने के देवताओं ने यज्ञ के लिए पवित्र स्थल की मांग गयासुर से मांगी। गयासुर ने अपना शरीर देवताओं को यज्ञ के लिया दे दिया। जब ग्यासुर लेटा तो उसका श्शरीर पांच कोस में फैल गया। यही पांच कोस की जगह आगे चलकर गया बनी। परंतु गयासुर के मन से लोगों को पाप मुक्त करने की इच्छा नहीं गई और फिर उसने देवताओं से वरदान मांगा कि यह स्थान लोगों को तारने (मुक्ति) वाला बना रहे। लोग यहां पर किसी की मुक्ति की इच्छा से पिंडदान करें, उन्हें मुक्ति मिले। यही कारण है कि आज भी लोग अपने पितरों को तारने के लिए पिंडदान के लिए गयाजी आते हैं। कहा जाता है कि गया में पहले विभिन्न नामों के 360 वेदियां थीं, जहां पिंडदान किया जाता था। फिलहाल इनमें से अब 48 ही बची हैं। वर्तमान समय में इन्हीं वेदियों पर लोग पितरों का तर्पण और पिंडदान करते हैं। यहां की वेदियों में विष्णुपद मंदिर, फल्गु नदी के किनारे और अक्षयवट पर पिंडदान करना जरूरी माना जाता है। देश में श्राद्ध के लिए हरिद्वार, गंगासागर, जगन्नाथपुरी, कुरुक्षेत्र, चित्रकूट, पुष्कर, बद्रीनाथ सहित कई स्थानों को महत्वपूर्ण माना गया है, लेकिन गया का स्थान उसमें सवोर्परि कहा गया है।



Full Yatra | TIRATH YATRA GAYA DHAM KI | सम्पूर्ण यात्रा गया धाम की | Full Devotional Story

Full Yatra | TIRATH YATRA GAYA DHAM KI | सम्पूर्ण यात्रा गया धाम की | Full Devotional Story #Ambey Bhakti Song - TIRATH YATRA GAYA DHAM KI Album - TIRATH YAT

YouTube

गरुड़ पुराण के अनुसार - क्या पितर श्राद्ध ग्रहण करने पितृलोक से पृथ्वी पर आते हैं? | YT Pandit Ji |

Jay Mahakaal dosto, aaj ki is video me maine aapko bataya hai ki kya pitar apna sharadh lene ke liye pitri lok se prithvi par aate hai, aapke iske bare main kya

YouTube

मृत्यु के बाद आत्मा कब और कैसे गर्भ में प्रवेश करती है | How does a soul enter the womb

मृत्यु के बाद आत्मा कब और कैसे गर्भ में प्रवेश करती है | How does a soul enter the womb If you like this video then please hit the LIKE button and please SUBS

YouTube

क्यों करते हैं गया में पिंड दान ! kyun karte Hain Gaya Mein Pind Daan !

Planet Bhojpuri Bhakti is for all type of devotional content. क्यों करते हैं गया में पिंड दान on Planet Bhojpuri Bhakti

YouTube

पितृ पूजा में पितृ पक्ष के दौरान भूल से भी न करें ये 8 काम, वरना भुगतना पड़ेगा पितृ का गुस्सा Pitra

#pitrapuja #pitradosh #Amavasya #pitraamavasya Don't Make these 8 mistakes during Pitra Paksh पितृ पूजा में पितृ पक्ष के दौरान भूल से भी न करें ये 8 काम, वरना भ

YouTube

माता सीता का श्राप

माता सीता का श्राप

YouTube

PITRA DOSH-2018 | क्या आपकी जन्मकुंडली में पितृदोष है ? कारण, निवारण और सटीक उपाय | Suresh Shrimali

#SureshShrimali contact us:- 0291-2799000, 2646625, 2432625 +91 9314728165(whatsapp) FACEBOOK Gurudev Suresh Shrimali - https://www.facebook.com/sureshshrim

YouTube

Gaya Shraadh Ke Baad ,Shraadh Kare ya गया श्राद्ध करने के बाद। पितरों का श्राद्ध करें या नही।

▶ Check out my gear on Kit: https://kit.com/bmishra ****************************JAISIYARAM*************************** This Video Is All

YouTube

Narayan Nagbali 3 day Puja at Triambakeshwar - Pitru Dosha Nivaran - Book ePuja Online

Pitru Dosh Shanti Puja Narayan Nagbali Puja - Significance, who should do it and why? by Pandit Vedmurti Shree Vaibhav Anil Sarwadnya Language - Hindi The N

YouTube

राजा दशरथ का पिंडदान माता सीता ने किया था न की प्रभु राम ने ये पांच जीव बने थे साक्षी,जाने क्यों j

नमस्कार दोस्तों मैं इस चैनल में धर्मग्रंथो की कुछ अनकहे तथा अनसुनी कथाओ के बारे में बताएंगे जो अपने शायद ही सुना या पढ़ा हो अतः आप हमसे जुड़े रहने के लिए हमारा च

YouTube

पितृ को प्रसन्न करने की आसान विधि,pitro ko prasan kare,pitro ko khush kare,pitron ko manaye, tarpan

पितृ को प्रसन्न करने की आसान विधि,pitra ko khush karne ke upay,pitra dosh se mukti ke upay,pitron ki khush karne ka tarika भटक रही आत्माओं की मुक्ति:-ऐसे दिवंग

YouTube

क्या गया श्राद्ध करने पर श्राद्ध की आवश्यकता नही रह जाती ?

Shankaracharya ji Clears Confusion with regard to Shraadh Rituals After Gaya Shraadh. * DONATE: UPI: govardhanmath@allbank Account Details: ALLAHABAD BANK A/C

YouTube

Tarpan at Gaya

Tarpan at Gaya.

YouTube

पिंड दान कौन कर सकता है | पिंड दान की परंपरा | Pind Daan Rite in Hindus | Hindu Rituals

नमस्कार, अगर आपके पास किसी मंदिर या धाम की VIDEOS है, या आप हिन्दू धर्म के बारे में कोई भी जानकारी पूरी दुनिया के साथ साझा करना चाहते हैं, और अगर आप चाहते हैं क

YouTube

श्राद्ध करने के 12 नियम || श्राद्ध करते समय ध्यान रखें || Chamatkari Samadhan

धर्म ग्रंथों के अनुसार श्राद्ध के दिनों में लोग अपने पितरों को जल देते हैं तथा उनकी मृत्युतिथि पर श्राद्ध करते हैं। ऐसी मान्यता है कि पितरों का ऋण श्राद्ध द्वार

YouTube

पितृ पक्ष में इन बातों का रखें ध्यान ये गलती ना करें, पितरों को प्रसन्न करने का उपाय

पितृ पक्ष में इन बातों का रखें ध्यान ये गलती ना करें,pind daan kaise karte hain शास्त्रों की यह मान्यता है कि पूर्वजों को याद किया जाने वाला पिंडदान उनतक सीधे

YouTube

पितृ दोष के लक्षण

पितृ दोष के उपाय भाग 1 https://youtu.be/y8vaEFakv-4 पितृ दोष के उपाय भाग 2 https://youtu.be/NgqGW-hySyo pitra dosh pitra dosh nivaran mantra pitru dosh nivar

YouTube

Shradh: क्यों सीता ने किया दशरथ का पिंडदान, राम के होते हुए | रामायण |रहस्य | Pind Daan

क्यों राम के होते हुए सीता ने किया दशरथ का पिंडदान, रामायण का रहस्य #ramayan #Raam #Sita Thank You For Watching.... Final Cut News...(FCN)

YouTube